प्रशासन व ग्रामीणों में वार्ता, उचित मुआवजा नहीं देने पर...

  |   Bharatpurnews

भरतपुर. पहाड़ी थाना क्षेत्र के गांव उभाका निवासी मृतक ट्रक चालक शरीफ (40) का शव देर रात पहाड़ी पहुंच गया। शव को पुलिस ने कब्जे में लेकर अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है। उधर, परिजन व ग्रामीणों ने बुधवार को शव को लेने से इनकार करने पर मामले में पेच फंस गया। ग्रामीणों का कहना है कि सरकार उनकी मांगों पर गौर करें नहीं तो वह शव नहीं लेंगे। इसकी जानकारी मिलने पर प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी हरकत में आ गए।

पहाड़ी एसडीएम, तहसीलदार व थाना प्रभारी समेत अन्य अधिकारी गांव उभाका पहुंचे और परिजन व ग्रामीणों को समझाइश की। वार्ता का दौर 12 बजे तक जारी था। प्रशासनिक अधिकारियों ने शहीद का दर्जा, सरकारी नौकरी समेत अन्य मांगों को सरकार के ही फैसला लेने की बात कही। इस मांग से उच्चाधिकारियों को अवगत कराने का भरोसा दिया। एसडीएम जगदीश आर्य का कहना था कि मृतक चालक के परिजन को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2 लाख, जम्मू-कश्मीर प्रशासन से 3 लाख रुपए और रेडक्रॉस सोसायटी की ओर से 50 हजार रुपए की मदद मिलेगी। इसके अलावा परिवार के सदस्यों के लिए जो भी सहायता योजनाओं के अंतर्गत होगी, उसे पूरा किया जाएगा। उधर, ग्रामीणों का कहना था कि सीकरी के गुलपाडा में गत दिनों विद्युत लाइन की चपेट में आने मृतकों को 5-5 लाख रुपए मिले थे, जबकि इस मामले में अधिकारी कुछ नहीं कर रहे हैं। जिस पर एक अधिकारी ने कहा कि विद्युत निगम के नियमों के तहत संबंधित को मुआवजा मिला था। गौरतलब रहे कि पहाड़ी थाना क्षेत्र के गांव उभाका निवासी ट्रक चालक शरीफ (40) की सोमवार रात जम्मू-कश्मीर के शोपियां इलाके में आंतकियों के गोली मारकर हत्या कर दी थी। चालक शोपियां क्षेत्र के गांव श्रीपाल से ट्रक में सेब लेकर दिल्ली आना था। इससे पहले मृतक चालक का शव रात करीब 8.30 बजे जम्मू से निजी एयरलाइंस दिल्ली पहुंच गया। वहां से तहसीलदार रामकुमार व अन्य परिजन शव को एम्बुलेंस से लेकर पहाड़ी आ गए। मृतक के शव को अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है।...

फोटो - http://v.duta.us/wfeOWwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/rldgOQAA

📲 Get Bharatpur News on Whatsapp 💬