मिट्टी के दीयों में छिपी इस कुम्हार परिवार की खुशियां, इस दिवाली परंपरागत दीपक जलाकर करें जिंदगी रोशन

  |   Balodnews

बालोद. दीपावली पर धन लक्ष्मी को प्रसन्न करने मिट्टी के दीपक बनाने वाले कुम्हारों की चाक अब तेजी से चलने लगी है। पूरा परिवार मिट्टी के दीपक बनाने में लगा है। उन्हें इस बार अच्छी बिक्री की उम्मीद है। जिले के ग्राम नेवारीकला, सांकरी में स्थित कुम्हारों की बस्ती में उनका परिवार मिट्टी का सामान तैयार करने में व्यस्त हैं। ग्राम नेवारी निवासी घनश्याम, ब्रिज लाल आदि कुम्हारों ने बताया कि मिट्टी के दीपक बनाने में मेहनत लगती है। रोजाना 100 से 200 दीपक बना रहे हैं।

पूरा परिवार बनाता है मिट्टी के दीपक व बर्तन

जिले के ग्राम नेवारीकला व ग्राम सांकरी में कई कुम्हार परिवार मिट्टी के बर्तन, दीपक बनाते हैं। वर्तमान में इन कुम्हारों के घरों में मिट्टी के दीपक, मटकी आदि बनाने माता-पिता के साथ उनके बच्चे भी हाथ बंटा रहे हैं। कोई मिट्टी गूंथने में लगा है तो किसी के हाथ चाक पर बर्तनों को आकार दे रहे हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/FGoxTgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/c3j6PQAA

📲 Get Balodnews on Whatsapp 💬