मस्ती का जीवन जीना है तो बस यह छोड़़ दें...

  |   Ratlamnews

रतलाम। मस्ती भरा जीवन जीना है तो बस आपको मन के अंदर पनप रहे एक ऐसे विकार को दूर करना होगा, जिसके बाद आपके जीवन में आनंद ही आनंद होगा। हम किसी चीज को छोड़ते क्यों हैं, जब यह पता चले कि नुकसान कर रही है तो हम उसे छोड़ देते हैं शुगर बढ़ती है मीठा खाना छोड़ देते हैं। कोलस्ट्रोल बढ़ता है तो हम घी खाना छोड़ देते हैं, लेकिन जब हमें पता है की द्वेष नुकसान करता है तो हम उसे क्यों नहीं छोड़ते। पांव में कांटा चुभ जाए तो चल तो सकते हैं, लेकिन कठिनाई होगी। आंख में कचरा गिर गए दिखेगा तो सही, लेकिन धुंधला दिखेगा मुश्किल होगी। वैसे ही अंदर में द्वेष है तो हम जी तो सकेंगे लेकिन तनाव और घुटन में जिएंगे। मस्ती का जीवन नहीं जी सकते है। मस्ती का जीवन जीने के लिए द्वेष छोडऩा होगा।...

फोटो - http://v.duta.us/ICwNOwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/K7yakwAA

📲 Get Ratlam News on Whatsapp 💬