राजस्थान का यह सरकारी स्कूल जहां 12वीं में सिर्फ 2 छात्रों को पढ़ाने के लिए लगे हैं 2 व्याख्याता और...

  |   Banswaranews

गढ़ी/बांसवाड़ा. एक ओर जहां शिक्षा विभाग सरकारी स्कूलों में प्रवेश बढ़ाने और बेहतर शिक्षा देने का दावा कर रहा है, वहीं राउमावि झालों का गढ़ा ऐसा स्कूल है, जहां पर क्रमोन्नति के बाद भी न तो बच्चों का प्रवेश हो रहा है और न ही नामांकन बढ़ पा रहा है। स्कूली शिक्षकों की उदासीनता के चलते बच्चों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं हो रही है। वहीं विभाग चहेते व्याख्याता व अध्यापक को एक ही जगह लगा लाखों खर्च कर रहा है। जबकि इसका रिजल्ट नामांकन के रूप में नहीं आ रहा है। सत्र 2016-17 तक चार अध्यापकों पर करीब 145 की छात्र संख्या थी। विभाग द्वारा सत्र 2017-18 में स्कूल क्रमोन्नत कर माध्यमिक कर दी। चार ओर नए अध्यापकों को लगाया परन्तु रोल 145 से 165 के करीब ही पहुंच पाया। सत्र 2018-19 में स्कूल 12वीं में क्रमोन्नत कर दिया। विभाग ने 15 शिक्षक लगा दिए। हिन्दी और इतिहास के दो व्याख्याता भी लगाए। फिर भी कक्षा 11वीं में एक भी प्रवेश नया नहीं हो पाया। थक हार के एक प्रवेश कराया वह भी दो साल से पढ़ाई छोड़ चुके बच्चों के नाम।...

फोटो - http://v.duta.us/sICtFgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/eHjZygAA

📲 Get Banswara News on Whatsapp 💬