रायबरेलीः 6 साल की दलित बच्ची के दुष्कर्मी को उम्र कैद, कोर्ट ने 20 दिनों में सुनाया फैसला

  |   Uttar-Pradeshnews

रायबरेली. कानून की किताबों में लिखा है, "देर से मिला न्याय अन्याय के समान है". बुधवार को रायबरेली (Raebareli) पुलिस और यहां की पॉक्सो कोर्ट (POCSO Court) ने इस मिसाल को झुठला दिया. अदालत ने 6 साल की मासूम दलित बच्ची को न्याय दिलाया और उसके साथ दुष्कर्म करने वाले (Rape accused) को उम्र कैद (life imprisonment) की सजा सुनाई. साथ ही 22 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया. कोर्ट का यह फैसला इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि पुलिस के चार्जशीट दाखिल करने के सिर्फ 20 दिनों के भीतर ही यह फैसला आया है.

एक माह पहले की घटना

रायबरेली जिले के हरचंदपुर थाना क्षेत्र में एक माह पहले 6 साल की दलित बच्ची के साथ दुराचार की घटना हुई थी. बुधवार को पॉक्सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश विजय पाल की अदालत में इस मामले की सुनवाई हुई. मामले में अभियोजन पक्ष के वकील एडीजीसी (क्रिमिनल) दिनेश श्रीवास्तव ने सुनवाई के दौरान घटना की विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने बताया कि बीते 17 सितंबर को वादी की छह साल की बेटी जब घर में अकेली थी. उस दौरान अभियुक्त राममिलन लोध उर्फ पुल्ली ने मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था....

फोटो - http://v.duta.us/G_jnXAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/qAuuKQAA

📲 Get UttarPradesh News on Whatsapp 💬