शहर में प्रस्तावित वायशेप ओवरब्रिज ठंडे बस्ते में, 2022-23 तक शहर में डीएमएफ से नहीं होंंगे एक भी काम, कलेक्टर ने ये कहा...

  |   Korbanews

कोरबा. शहर की सड़कों को गवर्निंग काउंसिल (Meeting Governing Council) ने पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया है। जितने भी प्रस्ताव दिए गए थे सभी को गैर जरुरी समझकर प्लानिंग में शामिल ही नहीं किया गया है।

भाजपा शासनकाल में डीएमएफ से शहर में जो कार्य हुए उससे जनता को फायदा तो मिला नहीं, अब जब कांग्रेस की डीएमएफ की प्लानिंगऌ सामने आई तो शहर को पूरी तरह से निराशा ही हाथ लगी। छह माह से इंतजार में बैठे शहरवासी डीएमएफ की प्लानिंग की 133 कार्यों के बीच शहर की सुविधा तलाश रहे हैं।

सबसे हैरत वाली बात है कि सीएसईबी चौक पर प्रस्तावित वायशेप ओवरब्रिज की प्रशासन ने जरुरत ही नहीं समझी। पिछले 10 साल से शहरवासी इसी उम्मीद में थे। पिछली बार डीएमएफ से इसके लिए 20 करोड़ की स्वीकृति भी दी थी। इसके अलावा चार जगहों पर अंडरब्रिज का मामला भी ठंडे बस्ते में प्रशासन ने डाल दिया है। शहर इन रेल क्रासिंग के जाल के बीच हर रोज फंस रहा है, लेकिन इस समस्या पर किसी का ध्यान ही नहीं गया। आने वाले तीन साल तक अब प्रशासन इन सुविधाओं के बारे में अब प्लानिंग भी नहीं करेगा। क्योंकि प्रस्तावित कार्ययोजना में यह शामिल ही नहीं किया गया है।...

फोटो - http://v.duta.us/m1XolwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/XB9W-gAA

📲 Get Korbanews on Whatsapp 💬