हाथ धुलाई से संक्रमक रोगों के खतरे से मिलती है निजात: सैय्याम

  |   Seoninews

सिवनी. एक छोटी सी आदत हजारों बच्चों की मौतों के सिलसिले को रोक सकती है। इससे बच्चों में होने वाली कई बीमारियों से ही बचाव नहीं होता बल्कि इससे बच्चों को हम अंजाने ही साफ-सफाई का सन्देश और सीख भी देते चलते हैं। उक्त उद्गार मठ हॉयर सेकेण्डरी कन्या शाला के प्राचार्य एमके सैय्याम ने विश्व हाथ धुलाई दिवस के अवसर पर व्यक्त किए।

उन्होंने आगे कहा कि एक छोटी सी आदत कि भोजन से पहले और शौच के बाद साबून से अच्छी तरह से हाथ धुलाई करें। इसके लिए अब हमें जोर देने की जरूरत है। आंकड़े बताते हैं कि अकेले मध्यप्रदेश में ही हर महीने पांच साल से कम उम्र के करीब एक हजार से ज्यादा बच्चों की मौतें सिर्फ दस्त, निमोनिया और श्वसन सम्बन्धी संक्रमणों की वजह से हो जाती है। यही आंकडा विश्व स्तर पर हर वर्ष 35 लाख बच्चों की असमय मौत के भयावह आंकड़ों में तब्दील हो जाता है। यह आंकड़े हमें चौंकाते भी हैं और हमारे तमाम प्रयासों को मुंह भी चिढ़ाते नजर आते हैं। मौत के आंकड़ों की इस भयावहता को कम किया जा सकता है इसी छोटी सी युक्ति से। भोजन से पहले और शौच के बाद अच्छी तरह साबुन से हाथ धोने से बीमारियों के संक्रमण का खतरा बहुत हद तक कम किया जा सकता है। इस अवसर पर शाला की समस्त शिक्षिका एवं स्टॉफ सहित छात्राओं का विशेष योगदान रहा।

फोटो - http://v.duta.us/cNJMRAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/LJ_skwAA

📲 Get Seoni News on Whatsapp 💬