आजादी से पहले जैसलमेर में गठित हुई थी नगरपालिका,बल्लाणी अध्यक्ष

  |   Jaisalmernews

जैसलमेर@चन्द्रशेखर व्यास. कम ही लोग जानते होंगे कि जैसलमेर में पहले नगरपालिका बोर्ड का गठन आजादी से पहले रियासतकाल में 1942 में कर दिया गया था। तत्कालीन महारावल जवाहिर सिंह ने ईमानदार और नेक छवि वाले कन्हैयालाल बल्लाणी को इसका अध्यक्ष मनोनीत किया था। तब नगरपालिका का कार्यालय वर्तमान गांधी चौक में स्थित नाचना हवेली के पास स्थापित किया गया था। यह नगरपालिका शहर में सफाई व्यवस्था और सार्वजनिक उपयोगी सेवाओं के संचालन का काम करती थी। गौरतलब है कि वर्ष 1938 में अंग्रेजी रेजीडेंट की ओर से तत्कालीन राजाओं को ग्रेड अनुसार डिग्रियां प्रदान की गईं। जिसमें जैसलमेर के तत्कालीन महारावल जवाहिर सिंह को अन्य राज्यों के राजाओं से एक डिग्री कम प्रदान की गई तब तक जैसलमेर में उच्च शिक्षा केंद्र, सार्वजनिक अस्पताल, सार्वजनिक उपयोग के लिए बिजली-पानी की व्यवस्था नहीं थी और न ही शहर में जनोपयोगी कार्यों के लिए जनप्रतिनिधियों द्वारा संचालित नगरपालिका थी। इसके बाद जवाहिर सिंह ने जैसलमेर में जवाहर चिकित्सालय का निर्माण करवाया, जो 1941 में शुरू हुआ। इसी समय दरबार काल्विन हाई स्कूल की स्थापना करवाई गई, जो आज अमर शहीद सागरमल गोपा के नाम से संचालित होती है। इसी कड़ी में जर्मनी की एक कम्पनी के सहयोग से निजी पावर हाउस का निर्माण करवाते हुए नए पावर जनरेटर लगवाए तथा शहर के मुख्य मार्गों पर स्ट्रीट लाइटें जगमगाई। उस समय के संभ्रांत लोगों के घरों में 11 रुपए शुल्क लेकर बिजली पहुंचाई गई। कनेक्शनधारियों के घरों में बिजली फिटिंग का कार्य भी उक्त कम्पनी ने किया। ऐसे ही सोनार दुर्ग के जैसलू कुएं पर पम्पसेट लगवाया और जल वितरण के लिए दुर्ग की अखे प्रोल में नल लगवाया गया। इसी सिलसिले में 1942 में नगरपालिका का गठन कर कन्हैयालाल बल्लाणी को उसका अध्यक्ष मनोनीत किया।...

फोटो - http://v.duta.us/W9Pg_QAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/SpqpRQAA

📲 Get Jaisalmer News on Whatsapp 💬