काशी विश्वनाथ धाम की बैलेंस शीट की जाए सार्वजनिक

  |   Varanasinews

वाराणसी। एमएलसी शतरुद्र प्रकाश ने काशी विश्वनाथ धाम के निर्माण में न्यायालय के निर्देेशों के उल्लंघन का आरोप लगाया। उनका कहना है कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को स्थानीय अधिकारी सही तथ्य नहीं बता रहे हैं। गंगा के 200 मीटर तक किसी भी नए निर्माण के आदेश का पालन वाराणसी में नहीं किया जा रहा है।

सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता में एमएलसी शतरुद्र प्रकाश ने बताया कि काशी विश्वनाथ धाम के लिए 260 भवनों की रजिस्ट्री 200 करोड़ रुपये के भुगतान से कराई गई है। भवनों की खरीद, ध्वस्तीकरण सहित अन्य निर्माण की बैलेंसशीट नहीं बनाई गई है। इसे पारदर्शी कर सार्वजनिक किया जाए। उन्होंने प्रधानमंत्री की घोषणा का जिक्र किया और कहा, इसमें अधिकारियों की मनमानी से पौराणिकता और अध्यात्मिकता नहीं है। फरवरी 2018 में विश्वनाथ धाम योजना परिक्षेत्र का राजस्व विभाग, नगर निगम, विकास प्राधिकरण, एलआईयू और ड्रोन से सर्वेक्षण कराया गया। इसमें साधारण और जीआईएस सर्वेक्षण में भवन आदि का सीमांकन कराया गया था। निर्माण कार्य काशी विश्वनाथ मंदिर निधि में भक्तों द्वारा दिए गए दान व केंद्र और राज्य सरकार के लोकधन से किया गया है। इसलिए खर्च को सार्वजनिक किया जाना आवश्यक है। उन्होंने अधिकारियों पर आरोप लगाया कि वे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के समक्ष तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। इसके कारण वाराणसी के लोग असुरक्षित और आहत महसूस कर रहे हैं। इस दौरान एमएलसी मधुकर जेटली भी मौजूद रहे।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/E9dFJwAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬