जेकेके में 'लोकरंग' कार्यक्रम: नन्हे हाथों से चाक पर विभिन्न आकार लेती मिट्टी

  |   Jaipurnews

जयपुर। जवाहर कला केन्द्र (जेकेके) में 10-दिवसीय 'लोकरंग' वर्कशाप में बच्चे धीमी रफ्तार से घूमते चाक पर चिकनी काली मिट्टी रख दीपक, कुल्हड, फ्लॉवर पोट, घण्टी आदि बना कर हस्तकला का प्रदर्शन तो कर ही रहे हैं। साथ ही राजस्थान की लुप्त होती पारम्परिक विरासत और पर्यावरण संरक्षण की जानकारी भी ले रहे हैं। चलते हुए चाक पर गिली मिट्टी को रख कर मनचाहा आकार देने के बाद इन्हें छाया में सुखाया जाता है ताकि से क्रेक न हो। इसके बाद इन पर बालडी नामक इंस्ट्रूमेंट की सहायता से डिजाइन बनाई जाती है। फिर इन वस्तुओं को 2-3 दिन धूप में सुखाने के बाद जब 900 से 1000 डिग्री तापमान पर पकाया जाता है तो इनमें मजबूती आ जाती है और ये पारम्परिक टेराकोटा रंग में परिवर्तित हो जाती है।...

फोटो - http://v.duta.us/GY6L6gAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/f4pxDQAA

📲 Get Jaipur News on Whatsapp 💬