टिकट टू फिनाले👉 टास्क हुआ 😱रद्द, बिग बॉस का 🗣️भड़का गुस्सा

  |   Biggbosshindi / बॉलीवुड

बिग बॉस 13 के बीते एपिसोड में टिकट टू फिनाले के लिए दोनों टीम के बीच हो रही फाइट का अंत काफी निराशाजनक रहा है। एक टीम दूसरी टीम के खून की प्यासी दिखाई दी । रेड और येलो टीम के बीच फिनाले में पहुंचने का मुकाबला हुआ ।

शहनाज, रश्मि देसाई और देवोलीना टास्क के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार हैं। वहीं सिद्धार्थ शुक्ला अपनी पूरी टीम को ये हौसला देते हुए दिखाई देते हैं कि हार और जीत चलती रहती है। टास्क खेलना जरूरी है। आखिरकार टिकट टू फिनाले का ये टास्क रद्द हो गया।

बिग बॉस ने सिद्दार्थ शुक्ला के खेल की तारीफ़ की और कहा उन्हें उम्मीद थी कि बाक़ी सब भी उनके पदचिन्ह पर चल कर अच्छा प्रदर्शन करेंगे लेकिन जो अंततः सामने आया वह काफी वाहियात, बचकाना और अफ़सोसजनक था।

बिग बॉस ने सब को खरी खोटी सुनाई और कहा कि हम इस शो में नाटकीयता नहीं असलियत और प्राकृतिक चरित्र की अहमियत रखते हैं। जिन्होंने सिद्दार्थ डे की बात में आकर नाटकीयता का सहारा लिया उन्होंने काफी अशोभनीय काम किया है।

बिग बॉस ने आगे कहा , "जीत-हार बस एक सिलसिला है। वो चलता रहता है लेकिन अगर आप प्राकृतिक ढंग से खेलते तो आप दर्शकों के दिल में अपने लिए कर पाते और वह काफी अहम् होता। हम इस शो में दर्शको को समझदार समझते है। मगर आप लोगों ने नाटकीयता करके कहीं न कहीं उन्हें काम कर के आं का है। शो में अब भी काफी वक़्त है, आप अपने असली चरित्र के संग आगे खेलें और यह दिया रहे की यह रियलिटी शो है , स्क्रिप्टेड नहीं"।

इसके बाद बिग बॉस ने टास्क रद्द कर दिया जिसमें यदि कोई टीम जीत जाती तो उस टीम की एक लड़की को टिकट तो फिनाले मिल जाता और वह सेफ हो जाती। यह टास्क इसलिए रद्द कर दिया गया क्योंकि दोनों टीमों ने एक दुसरे के बनाये गुड्डों को अन्यायपूर्ण ढंग से खामिया बता कर नकार दिया था।

चूंकि इस बिना वजह खिलौनों को नकारने की प्रक्रिया को पारस ने शुरू की थी इसीलिए बिग बॉस के जाने के बाद सबने पारस को खरी खोटी सुनाई जिस पर पारस ने कहा कि अगर उसने गलत तरीके से गुड्डों को नाकारा तो भी अगली टीम अपने विवेक के हिसाब गुड्डे स्वीकार और रिजेक्ट कर सकती थी जिस पर आरती, जो कि अगली टीम में है, ने कहा कि हम यहां कोई महान बनने नहीं आये। सब को फेयर खेलना चाहिए था।

📲 Get बिग बॉस on Whatsapp 💬