दवा कंपनियों से सीधे सांठगांठ कर दवा मंगाते हैं डॉक्टर, मरीजों को लिखते हैं वही दवा, जो उनकी दुकानों पर मिलती है

  |   Ranchinews

रांची : राज्य के अधिकांश डॉक्टर अपने अस्पताल व क्लिनिक में खुद की दवा दुकान चलाते हैं. वे मरीजों को परामर्श के बाद वही दवा लिखते हैं, जो सिर्फ उनकी दुकानें पर उपलब्ध होती हैं. मरीजों को ब्रांडेड दवा के साथ-साथ प्रोपेगेंडा कंपनी की दवाएं भी दी जाती हैं. ऐसी दवाओं में ज्यादा मार्जिन रहता है, जिसे डॉक्टर सीधे कंपनी से सेटिंग कर मंगा लेते हैं. ऐसे में उक्त दवा के प्रचार-प्रसार पर कंपनी को ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ा है. दूसरी ओर डाॅक्टरों को भी अधिक मुनाफा होता है.

राजधानी के एक डॉक्टर ने बताया कि जिन डॉक्टरों का अपना अस्पताल या क्लिनिक नहीं होता है, वह भी कमाई का रास्ता बना लेते हैं. वह सीधे कंपनी से सेटिंग कर अस्पताल की दवा दुकान में दवा मंगवा लेते हैं. उस खास डॉक्टर साहब की खास दवा उसी दवा दुकान पर मिलती है. अन्य दवा दुकानों पर नहीं मिलती है. एक मरीज ने बताया कि एक डॉक्टर ने जोनम नामक दवा खरीदने का परामर्श दिया था, जो संबंधित अस्पताल की दवा दुकान को छोड़कर अन्य किसी दवा दुकान में नहीं मिली....

फोटो - http://v.duta.us/ojXMCQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/FoQbWgAA

📲 Get Ranchi News on Whatsapp 💬