परिवार की याद आते ही छलक आते थे आंसू

  |   Hazaribaghnews

दाढ़ी और बाल बनाने की नहीं थी इजाजत

टाटीझरिया : तालिबानियों के कब्जे से डेढ़ साल बाद अपने घर लौटे काली महतो के घर अभी से दीवाली शुरू हो गयी है. टाटीझरिया के बेड़म गांव में लोगों की खुशी देखते ही बन रही है. मंगलवार की रात करीब आठ बजे काली महतो जैसे ही दिल्ली से अपनी पत्नी व पुत्र चिंतामन के साथ गांव पहुंचा, पूरे गांव के लोगों ने गर्मजोशी से उसका स्वागत किया.

अफगानिस्तान में तालिबानियों के कब्जे में उसने 540 दिन तक कैसे बिताया, यह सोच कर वह सिहर जाता है. परिवार की याद में कभी वह रोता था, तो कभी भगवान को याद करता था. नयी जिंदगी मिलने के बाद वह अब गांव में ही परिवार के साथ रहना चाहता है....

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/PemRgwAA

📲 Get Hazaribagh News on Whatsapp 💬