पश्चिम बंगाल के एक्सपर्ट ट्रैकर्स ने शुरू की नेपाल के उत्पाती जंगली हाथियों की निगरानी

  |   Lakhimpur-Kherinews

बांकेगंज। नेपाल के हाथियों के तीनों झुंडों के सोमवार रात बांकेगंज इलाके में इकट्ठे हो जाने के बाद उनका उत्पात और ज्यादा बढ़ गया है। मंगलवार रात सोहनरा भूड़ और जटपुरा गांव में धान और गन्ने की कई एकड़ फसल रौंद डाली, एक हैंडपंप तोड़कर उसे कुचल दिया। वहीं पश्चिम बंगाल से बुलाए गए 24 एक्सपर्ट ट्रैकर्स ने वन कर्मियों की टीम के साथ अपना काम शुरू कर दिया है। ये ट्रैकर्स खासतौर से हाथियों को आबादी की तरफ जाने से रोकेंगे और वापस जंगल भेजने की कोशिश करेंगे।

दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन के मैलानी रेंज की जटपुरा बीट में नेपाल से आए उत्पाती जंगली हाथियों का झुंड अभी इसी बीट के कंपार्टमेंट पांच से सटे सोहनरा भूड़ और जटपुरा गांव के पास डेरा डाल रखा है। मंगलवार शाम करीब सात बजे हाथियों के झुंड ने सोहनरा भूड़ गांव को ओर अपना रूख करने की कोशिश की, लेकिन निगरानी में लगी वन कर्मियों की टीम ने किसी तरह वापस उन्हें जंगल में खदेड़ दिया। लेकिन झुंड रात करीब एक बजे फिर गांव के पास जा धमका। हाथियों ने किसान गेंदन लाल आदि की गन्ने और धान की फसलें उजाड़ दीं। रास्ते में लगे एक हैंडपंप को तोड़कर पैरों से कुचल दिया। हाथियों के चिंघाड़ सुनकर ग्रामीणों की पूरी रात दहशत में ही कटी। कई घंटे उत्पात मचाने के बाद हाथियों का झुंड वापस फिर जटपुरा बीट के कंपार्टमेंट पांच जंगल में लौट गया। निगरानी में लगी वन कर्मियों की टीम में शामिल फॉरेस्टर मोहम्मद उमर, राजेंद्र वर्मा और आकाश खरवार का कहना है कि ये हाथी दिन मेें आराम करते हैं और शाम ढलते ही जंगल से बाहर निकलना शुरू कर देते हैं।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/A4YIbAAA

📲 Get Lakhimpur Kheri News on Whatsapp 💬