बेटे की मौत के सदमे से नहीं उभर पाया था रामकृष्ण

  |   Bilaspurnews

घुमारवीं(बिलासपुर)। एक हंसते खेलते परिवार को क्या पता था कि एकाएक बेटे के जाने के बाद पूरा परिवार ही खत्म हो जाएगा। घटना घुमारवीं के साथ लगती पंचायत सेऊ के गांव भदरोग की है जहां बुधवार की सुबह ही एक पति ने पत्नी सहित खुद को आग के हवाले कर दिया। जो पत्नी हर साल करवाचौथ का व्रत कर पति की लंबी आयु की दुआ मांगती थी उसे क्या पता कि इस बार वह करवा चौथ के एक दिन पहले खुद पति के हाथों मौत की नींद सुला दी जाएगी।

रामकृष्ण पुत्र जय सिंह और कांता देवी की शादी करीब 15 साल पहले हुई थी। शादी के बाद दोनों में सब कुछ सामान्य चल रहा था। दोनों का एक लड़का भी था। अचानक पांच साल की उम्र में बेटे की मृत्यु हो गई और रामकृष्ण इस सदमे से उभर नहीं पाया। बेटे की मौत के बाद दोनों में लड़ाई झगड़े होने लगे। बात मारपीट तक पहुंच गई। कई बार रामकृष्ण की शिकायत पत्नी ने पंचायत और थाने में भी की है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/FqX7SQAA

📲 Get Bilaspur News on Whatsapp 💬