बाढ़ से फसलों की खूब हुई क्षति, 537 केसीसी धारकों के नुकसान की भेजी गई रिपोर्ट

  |   Ballianews

बलिया। बाढ़ से हुई फसल की क्षति को लेकर कृषि विभाग ने सर्वे शुरू कर दिया है। कृषि विभाग ने अब तक 537 किसान क्रेडिट कार्ड धारकों की फसल की क्षति मानते हुए शासन और फसल बीमा एजेंसी को रिपोर्ट भेज दी है। उधर, राजस्व विभाग ने भी 9000 हेक्टेयर में फसल नष्ट होने की बात मानते हुए शासन को रिपोर्ट भेजी है।

करीब डेढ़ माह पहले जिले के विभिन्न क्षेत्रों में गंगा, घाघरा और टोंस नदी की बाढ़ ने खूब तबाही मचाई थी। खासकर गंगा व घाघरा नदियों के पानी ने कई तरफा नुकसान पहुंचाया। नदियों के किनारे केवल फसल ही नहीं बल्कि जमीनों को भी काटकर नदियों की धारा अपने साथ बहा ले गई। करीब एक माह से नदियों का जलस्तर लगातार घट रहा है। लेकिन बढ़ाव के दौरान ताल क्षेत्र के खेतों में जमा पानी आज भी भरा हुआ है। आलम यह है कि किसान रबी की बुआई को लेकर चिंतित हैं, हजारों एकड़ खेतों में तो रबी के किसी फसल की बुआई होने की संभावना नहीं दिख रही है। उधर, बाढ़ से फसलों की हुई बर्बादी का आकलन शुुुरू हो चुका है। कृषि विभाग की ओर बनी टीम ने अब तक कुल 537 केसीसी धारकों के फसलों की क्षति को मानते हुए शासन व फसल बीमा एजेंसी को रिपोर्ट भेजी है। हालांकि अभी सर्वे का काम जारी है। उधर, राजस्व विभाग ने भी बाढ़ से हुई फसलों की क्षति का आकलन किया है। जिला प्रशासन की ओर से शासन को भेजी गई रिपोर्ट के अनुसार जिले में करीब नौ हजार हेक्टेयर फसलों की क्षति हुई है। जिला प्रशासन ने इस क्षतिपूर्ति के लिए कुल 6.81 करोड़ रुपये की मांग शासन से की है। इसमें दो हेक्टेयर से कम रकबा वाले किसानों के लिए 575.07 लाख, दो हेक्टेयर से अधिक रकबा वाले किसानों के लिए 106.42 लाख रुपये और लघु व सीमांत किसानों के अन्य नुकसान के लिए 49 हजार रुपये की मांग की है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/vp6FbwAA

📲 Get Ballia News on Whatsapp 💬