बल्लेबाजों🏏 के हाथ, कोहनी और सिर पर लगी 😲गेंद, इस भारतीय खिलाड़ी ने कह दी यह🗣️ बात

  |   क्रिकेट / Punjabcricket

खतरनाक तरीके से उठकर बल्लेबाजों के हेलमेट पर लगती तेज गेंदें, लंबी गेंद से कोहनी पर लगती चोट। इतना ही नहीं, ऑफ स्पिनर की लेंथ बॉल विकेटकीपर के सिर के ऊपर से बाउंड्री लाइन के बाहर। वडोदरा में विजय हजारे ट्रॉफी के मुकाबलों का ये नजारा आम है।

भारत के घरेलू वनडे टूर्नामेंट में इस बार बारिश ने विलेन का काम किया है। इसके चलते कई मुकाबले रद्द हो गए तो कई का कार्यक्रम बदलना पड़ा। खासतौर पर वडोदरा का मोतीबाग स्टेडियम निशाने पर है, जहां महाराष्ट्र की पूरी टीम 65 रनों पर ही सिमट गई।

दरअसल, महाराष्ट्र और पंजाब के बीच खेले गए इस मुकाबले में पिच का अहम रोल रहा। पंजाब ने महाराष्ट्र की पूरी टीम को महज 65 रनों पर ढेर कर दिया। हालांकि इस छोटे से लक्ष्य तक पहुंचने में पंजाब के भी शुरुआती चार विकेट गिर गए थे। इसी मैदान पर ओडिशा की टीम 73 रनों पर सिमट गई।

ऐसे में टीम इंडिया के लिए 31 टेस्ट खेल चुके वसीम जाफर ने विजय हजारे ट्रॉफी में इस्तेमाल की जा रहीं इस तरह की पिचों को लेकर चिंता जताई है। वसीम जाफर रणजी ट्रॉफी के इतिहास में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। विदर्भ के अब तक के नौ मुकाबलों में से उसे महज दो में ही जीत मिली है। चार मैचों में टीम को हार मिली है, जबकि तीन मैच बारिश की भेंट चढ़ गए।

वसीम जाफर ने कहा, अगर जसप्रीत बुमराह या उमेश यादव या फिर कोई भी गेंदबाज जिसकी गति 140 किमी प्रतिघंटे के करीब हो, वो इस पिच पर कई बल्लेबाजों को घायल कर देता। यहां तक कि उन बल्लेबाजों के लिए तो उनके इस सीजन का ही अंत हो जाता।'

फोटो - http://v.duta.us/Ev9QNgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/FwHqEgAA

📲 Get क्रिकेट on Whatsapp 💬