यदि मानव जीवन में दुष्कर्म करेगा तो नरक गति में जाएगा

  |   Ratlamnews

रतलाम। जीव अनंत भव का भ्रमण कर 84 लाख जीव योनियों को भोग कर मानव भव को प्राप्त करता है। मानव भव को जक्शन जैसा कहा गया है यहां से दिशा और दशा को सुधारने हेतु मानव व्रत, पंचकाण, नियम, साधना, आराधना कर उच्च गति में जा सकता है।

यदि मानव जीवन में दुष्कर्म करेगा तो नरक गति में जाएगा, जहां पश्चाताप के अलावा कुछ नहीं हो सकता। मानव जन्म मिला है तो धर्म आराधना करके अपने जीवन को धन्य बनाएं। यह बात गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर मसा की निश्रा में श्री शंखेश्वर पाश्र्वनाथ धाम पर चल रहे पावनीय चातुर्मास महोत्सव में डॉ सिद्धरत्नविजय ने कही। प्रतिदिन दूरदराज क्षेत्र से ग्रामीणजन व श्रीसंघ पहुंचकर प्रवचन का श्रवण कर दर्शन लाभ ले रहे हैं। इस मौके पर मुनिराज विद्वतरत्नविजय, मुनिराज तारकरत्नविजय उपस्थित थे। सर्वप्रथम गुरु भक्त परिवार बीजापुर द्वारा दादा गुरुदेव व पुण्य सम्राट की आरती उतारी गई। साथ ही उपधान आराधक व गुरु भक्त बीजापुर द्वारा प्रभावना वितरित की गई। निवि का लाभ कांता बेन बोहरा थराद ने लिया।16 से 30 अक्टू बर तक बहुमान का लाभ पारसमल धींग परिवार राकोदा ने लिया। सभी लाभार्थिंयों का श्री संघ अध्यक्ष बाबूलाल धींग परिवार ने बहुमान किया। संचालन चातुर्मास प्रभारी राकेश जैन ने किया।...

फोटो - http://v.duta.us/Bc7DYAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/NxBmYAAA

📲 Get Ratlam News on Whatsapp 💬