रबी सीजन में गेहूं फसल पर कृषि विभाग का दांव

  |   Mandsaurnews

मंदसौर. खरीफ फसल जहां बाढ़ और अतिवृष्टि की भेंट चढ़ गई वहीं रबी सीजन में गेहूं अन्नदाता के लिए संकटमोचन का काम करेगा। अतिवृष्टि से जिले के सभी जलस्त्रोतों में भरपूर पानी है। इस लाभ गेहूं फसल को होगा। कृषि विभाग ने भी इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस साल गेहूं पर दांव खेलने का मानस बनाया है। रबी फसल का अेकेल ७९ फीसदी लक्ष्य की गेहूं का तय किया है। लक्ष्य बढऩे से गेहूं का बम्पर उत्पादन भी होगा।

मंदसौर जिला एक महीने से अधिक समय तक बाढ़ की चपेट में रहा। चहुंओर हाहाकार मचा रहा। खरीफ फसल पूरी तरह चौपट हो गई। अन्नदाता के लिए बोवनी का खर्चा निकालना तक मुश्किल हो गया। अब रबी सीजन से अन्नदाता की उम्मीद जगी है। अतिवृष्टि से जलस्त्रोत लबालब हैं। इसका अधिक से अधिक लाभ किसानों को मिले इसके लिए कृषि विभाग ने भी गेहूं का रकबा सर्वाधिक रखा है। वर्ष 2017-18 में जिले में गेहूं की बोवनी 86 हजार 700 हेक्टेयर में हुई थी। इसकी तुलना में इस साल गेहूं का रकबा एक लाख 3 हजार हेक्टयर बढ़ाया गया है। पिछले साल की तुलना में गेहूं के लक्ष्य में करीब 57 फीसदी वृद्धि की गई है। पिछले साल जिले में एक लाख 20 हजार 750 हेक्टेयर में गेहूं की बोवनी हुई थी। मंदसौर जिले की मुख्य फसल होने की वजह से भी कृषि विभाग गेहूं पर दांव खेलने के मूड में है। इस साल सिंचाई को लेकर कोई समस्या नहीं होने से गेहूं का उत्पादन भी बंपर होने की पूरी संभावना बनी हुई है।...

फोटो - http://v.duta.us/xGxAKgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/J3hzeAAA

📲 Get Mandsaur News on Whatsapp 💬