लोहे की राड मारकर की गई थी अरमान की हत्या

  |   Pilibhitnews

पूरनपुर (पीलीभीत)। वर्कशॉप मालिक अरमान की अगस्त माह में लेनदेन के विवाद पर उसके साथियों ने चलती बाइक पर अरमान के सिर पर पीछे से लोहे की राड से प्रहार कर हत्या की थी। पुलिस ने घटना का खुलासा कर नामजद हत्यारोपी अंकुर अग्रवाल और गुरसरन उर्फ लाडी सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

मोहल्ला गनेशगंज राजन टॉकीज वाली गली निवासी अरमान का शव पूरनपुर-मैंगलगंज हाइवे पर घाटमपुर के आगे सड़क किनारे 19 अगस्त की शाम को मिला था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अरमान की मौत सिर में आई चोटों से होना पाई गई। पुलिस शुरू में यह मामला सड़क दुर्घटना का मानती रही थी। घटना की रिपोर्ट दर्ज न होने के विरोध में अरमान के परिवारवालों और अन्य करीबियों ने नगर में जुलूस निकालकर कोतवाली में धरना प्रदर्शन किया था। कोतवाली पुलिस ने घटना के दो दिन बाद अरमान के भाई शक्ति कुमार की ओर से अरमान के साथी सुधीर कॉलोनी निवासी अंकुर अग्रवाल, बंडा बस स्टैंड के समीप रहने वाले लाडी सिंह उर्फ गुरसरन के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की थी। घटना के बाद से दोनों नामजद आरोपी कई दिन तक कोतवाली पुलिस की हिरासत में रहे थे। नामजद आरोपियों का चालान न होने के विरोध में दो दिन बाद अरमान के परिवारवालों ने लोगों के साथ नगर में कैंडल मार्च निकालकर एसडीएम का घेराव किया। कोतवाली में हंगामा कर प्रदर्शन किया। बाद में हुई वार्ता ने एसडीएम, सीओ ने जांच के बाद कार्रवाई कराने का भरोसा दिलाया था। अरमान की मौत पर हत्या या हादसा में कोतवाली पुलिस उलझी रही। घटना के करीब दस दिन बाद घटना की विवेचना माधोटांडा एसएचओ केशव कुमार तिवारी को सौंपी गई। माधोटांडा एसएचओ केशव कुमार तिवारी ने बृहस्पतिवार को शाहगढ़ रेलवे क्रॉॅसिंग के समीप से दोनों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा कर दिया। उन्होंने बताया कि लेनदेन के विवाद पर नामजद दोनों आरोपियों ने चलती बाइक पर अरमान के सिर पर पीछे से लोहे की राड से प्रहार कर हत्या की थी। हत्या में प्रयुक्त की गई राड उसी दिन पुलिस ने घटना स्थल के समीप से बरामद की थी। गिरफ्तार किए गए दोनों हत्यारोपियों का बृहस्पतिवार को कोर्ट के लिए चालान कर दिया गया।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/Viw4mAAA

📲 Get Pilibhit News on Whatsapp 💬