Karva Chauth Special.......सबने छोड़ दी थी आस, मुझे था पूरा विश्वास

  |   Chittorgarhnews

चित्तौडग़ढ़. करवा चौथ पर पति की उम्र की लंबी कामना तो सभी सुहागिन करती है लेकिन कुछ ऐसी भी सुहागिन है जिन्होंने सुहाग की जिंदगी खतरे में आ जाने पर उनकी जिंदगी बचाने के लिए स्वयं को समर्पित कर दिया। उनकी सेवा में खुद को झोंक सुहाग पर्र्व करवा चौथ की भावना को साक्षात कर दिया। उन्होंने बता दिया कि पति की लंबी उम्र की कामना करने के साथ वे जरूरत होने पर उनकी भूमिका निभा परिवार की जिम्मेदारी भी निभा सकती है। पति के काम नहीं कर पाने की स्थिति में उनकी हर तरह से सेवा की।

पांच वर्ष पूर्व एक दुर्घटना में बाइक सवार पति के दोनों पैर पूरी तरह खत्म हो गए और उन्हें थैले में रखकर अस्पताल लाने की नौबत आ गई तो सबने आस छोड़ दी थी लेकिन मुझे पूरा विश्वास था कि करवा चौथ पर मैं लंबी उम्र की जो कामना करती हूं वे खाली नहीं जाएगी। वो विश्वास फलीभूत हुआ पति करीब २६ माह तक पैर भी नहीं हिला पाए तो सेवा में कोई कमी नहीं रखी। इस दौरान परिवार की जिम्मेदारियां भी उठाने का हर संभव प्रयास किया। चित्तौडग़ढ़ की ४५ वर्र्षीय चंचल राव बताती है कि काटून्दा मोड़ पर वर्ष २०१४ में हुए हादसे ने उनकी जिंदगी पर संकट के बादल ला दिए। हालत देेख लोगों ने कहा कि ये जी नहीं पाएंगे लेकिन मैने कहा कि मेरा पति कभी मर नहीं सकता। समय बदला और हालात कुछ सुधरे और पति अब चिकित्सालय में सेवा पर जाने लगे है। हादसे के समय दसवीं कक्षा की छात्रा रही उनकी बेटी बिन्नी को भी उन्होंने हौंसला दिया।...

फोटो - http://v.duta.us/YrNv1QAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/rn9KsgAA

📲 Get Chittorgarh News on Whatsapp 💬