सरकार की नई घोषणा से अब पार्षद के दावेदारों को घर-घर से जुटाने होंगे वोट्र्स, दो भागों में बंटेगा विकास का ढांचा

  |   Jodhpurnews

अविनाश केवलिया/जोधपुर. एक-एक वोट की कीमत क्या होती है यह राज्य सरकार की नई घोषणा के बाद सार्थक साबित हो सकती है। 10-12 हजार लोगों पर एक पार्षद की नीति अब बदल गई है। 4 हजार लोग से भी कम लोग अपना पार्षद चुन लेंगे। एक वार्ड में यदि दोनों राजनीतिक पाॢटयों के अलावा त्रिकोणीय मुकाबला हुआ तो समझो एक-एक व्यक्ति को घर से निकाल कर बूथ तक लाना होगा।

10 लाख से अधिक आबादी वाले तीन शहरों में राज्य सरकार ने दो-दो नगर निगम की व्यवस्था कर दी है। जोधपुर शहर का ढांचागत विकास दो भागों में बंट जाएगा। 80-80 वार्ड के साथ महापौर, उप महापौर व पूरी शहरी सरकार अलग होगी। पिछले चुनाव में 65 वार्ड होने पर जहां एक पार्षद बनने के लिए नेताओं को 10-12 हजार लोगों से सम्पर्क कर वोट अपील करनी थी। वहीं अब 160 वार्ड बनने के बाद एक प्रत्याशी को 4 से 5 हजार लोगों से ही वोट अपीलकरनी है।...

फोटो - http://v.duta.us/aR_VIwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/6xkEKAAA

📲 Get Jodhpur News on Whatsapp 💬