जिगर के टुकड़ों पर 'झूलती मौत से चिंतित अभिभावकों की किसी ने नहीं सुनी

  |   Udaipurnews

उदयपुर/ मावली. school bhavan ki kami यूं तो सरकार की ओर से शिक्षा में गुणवत्तापूर्ण सुधार को लेकर ढेरों योजनाएं चलाई जा रही हैं। कहने को बालकों के सर्वांगीण विकास पर भी जोर दिया जा रहा है। लेकिन, धरातल पर सुविधाओं के नाम पर सरकार आम विद्यार्थी को क्या सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। इसकी बानगी यहां मावली तहसील क्षेत्र के पुरावतों का खेड़ा स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय में देखने को मिलती है। यहां शिक्षा के प्रति स्थानीय ग्रामीण जागरूक हैं। वह बच्चों को जिम्मेदारी से स्कूल भेजते हैं। इसलिए ही सरकारी प्रयासों के बीच इस बार नामांकन की संख्या 74 पर पहुंची है। पर, दुर्भाग्य ही कहेंगे कि ग्रामीणों की इच्छा के विपरीत कक्षा एक से पांचवीं तक के विद्यार्थियों को यहां एक कक्ष में ही बिठाकर अध्ययन कराया जा रहा है। सामूहिक 'खिचड़ीÓ से विद्यार्थियों का शैक्षणिक कार्य प्रभावित ही नहीं है बल्कि उनका भविष्य भी उलझन में है। खास समस्या यह है कि विद्यालय में तीन कक्षाकक्ष हैं। इनमें से एक में प्रधानाध्यापक कक्ष संचालित हंै, जबकि हकीकत यह है कि विद्यालय की छत खस्ताहाल है। पानी टपकन की समस्या के अलावा छत के गिरने की आशंकाएं गहराई हैं। ऐसा ही हाल प्रधानाध्यापक कक्ष का भी है। बरसात में यहां का रिकॉर्ड भी गीला होने से नहीं बचाया जा सका है।...

फोटो - http://v.duta.us/WMQ7vwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/Pd0T1QAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬