डॉ. इंदौरा कुमारी सैलजा से हारे और हराया भी, अब उनकी ही अध्यक्षता में कांग्रेस में हुए शामिल

  |   Sirsanews

मंगलवार को इनेेलो की टिकट पर दो बार एमपी व एक बार विधायक रह चुके डॉ. सुशील इंदौरा ने कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा की अध्यक्षता में कांग्रेस ज्वाइन की। सुशील इंदौरा वही नेता हैं जो कि 1996 के चुनावों में समता पार्टी (मौजूदा इनेलो) के नेतृत्व में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा था और कुमारी सैलजा से हार गए थे। लेकिन 12वीं लोकसभा 1998 में लोकदल की टिकट पर सिरसा से लोकसभा चुनाव लड़े और कुमारी सैलजा को हराया। 1999 के लोकसभा चुनाव में भी इनेलो की टिकट पर सांसद बने। 2004 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के आत्मा सिंह गिल से हार गए। 2005 के विधानसभा चुनाव में इनेलो की टिकट पर ऐलनाबाद की आरक्षित सीट से चुनाव लड़े और जीत गए। लेकिन 2009 में आते आते कांग्रेस ज्वाइन की। उस चुनाव में कालांवाली से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़े, लेकिन इनेलो व अकाली के संयुक्त उम्मीदवार चरणजीत सिंह रोड़ी से हार गए। 2014 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा ज्वाइन की और हजकां-भाजपा की टिकट पर सिरसा से लोकसभा चुनाव लड़े, लेकिन चरणजीत सिंह रोड़ी जीते और डॉ. सुशील इंदौरा तीसरे नंबर पर रहे। इसके बाद पिछले वर्ष ही डॉ. सुशील इंदौरा ने अपनी पार्टी भी बनाई। ऐसे में अब 2019 में डॉ. सुशील इंदौरा फिर से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा की अध्यक्षता में कांग्रेस में शामिल हुए, जिन्हें एक बार हराया और एक बार हारे भी।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/A2YXMAAA

📲 Get Sirsa News on Whatsapp 💬