ताले में लैब कैसे हो मिट्टी परीक्षण

  |   Morenanews

पोरसा. अंचल में करीब दो साल पहले सभी ब्लॉक मुख्यालयों पर करोड़ों रुपए खर्च करके मिट्टी का परीक्षण की लैबों का निर्माण किया गया। ताकि किसानों को पता चल सके कि उनके खेत में कितना खाद, किस तत्व की कमी है, कितना रसायन डालना है ताकि सही पैदावार होकर मिट्टी की गुणवत्ता को बनाए रखा जा सके। इससे किसानों को मंहगी खाद और रसायन को खरीदने में ज्यादा पैसा न गंवाना पड़े।

लेकिन शासन की इस योजना पर ही अब सवाल उठ रहे हैं। अफसरों ने करोड़ों रुपए निर्माण कार्य और उपकरणों की खरीद फरोख्त पर खर्च कर डाले। लेकिन स्टाफ नहीं होने से लैब में ताले पड़े हुए हैं। उनका अभी तक कोई उपयोग ही नहीं हो सका है। एक ओर भवन का गारंटी समय भी बीत रहा है वहीं खरीदे गए उपकरणों का गारंटी समय भी बिना उपयोग के ही बीत चुका है। जिससे लैब निर्माण करने की मंशा पर ही सवाल खड़े हो गए हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/i4IGKwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/5NlSWQAA

📲 Get Morena News on Whatsapp 💬