धान की फसल पर अब तीसरा अटैक

  |   Vidishanews

विदिशा. जिले में धान की फसल से ही किसानों को काफी उम्मीद थी, लेकिन यह फसल अब तीसरी बार संकट में आ गई है। हल्दी गांठ संबंधी रोग ने फसल को अपनी चपेट में ले लिया है और किसान अपनी फसल को इस बीमारी से बचाने के लिए परेशान हो रहे हैं। मालूम हो कि जिले में करीब 22 हजार हैक्टेयर में धान की फसल है। अतिवृष्टि से सोयाबीन एवं उड़द फसल को काफी नुकसान पहुंच चुका। धान की फसल में किसानों को बेहतर उम्मीद थी लेकिन यह फसल भी अब बीमारी की चपेट में है। किसानो का कहना है कि बाढ़ एवं अतिवृष्टि के बीच जिले में उनकी सोयाबीन व उड़द की फसल को काफी नुकसान पहुंचा। धान की फसल बेहतर थी लेकिन वह भी अधिक बारिश के कारण अब कई तरह के रोगों की चपेट में आ रही है। पूर्व मेें इस फसल के पत्तों में फफूंद लगने की समस्या से जूझना पड़ा। दवाओं के जरिए अपनी फसल बचाई तो फिर माहू तने की इल्ली का प्रकोप शुरू हो गया। इससे भी बचाव के लिए दवाओं पर राशि खर्च कर फसल को संभाला तो अब हल्दी गांठ की बीमारी धान की फसल को तेजी से नुकसान पहुंचाने लगी है।...

फोटो - http://v.duta.us/eyBetwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/m5SDnQEA

📲 Get Vidisha News on Whatsapp 💬