निजी बसों की मनमर्जी : अवैध रूट पर चलकर चांदी कूट रहे निजी बस संचालक

  |   Kotanews

कोटा. रोडवेज निजी बसों को दिए गए अवैध रूट परमिट और आरक्षित मार्गों पर धड़ल्ले से हो रही डग्गेमारी की वजह से ही घाटे में नहीं गई। इसे डुबोने में राजस्थान पथ परिवहन निगम के अधिकारियों ने भी कोई कमी नहीं छोड़ी। लापरवाही का आलम यह है कि साल 2005 में आंके गए यात्रीभार के मुताबिक निगम प्रस्तावित बसों का 14 साल बाद भी इंतजाम कर सका। ऐसे में कोटा संभाग के मुसाफिर निजी बसों के भरोसे सफर करने को मजबूर हैं।

राज्य सरकार, परिवहन विभाग और राजस्थान पथ परिवहन निगम ने साल 2005 में प्रदेशभर के 130 मार्गों और उनसे जुड़े सहायक मार्गों पर सरकारी बसों की सुविधा बढ़ाने के लिए यात्रीभार का आकलन कराया था। इन मार्गों पर अवैध वाहनों का धड़ल्ले से संचालन हो रहा था।...

फोटो - http://v.duta.us/1TjDdwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/PRzeoAAA

📲 Get Kota News on Whatsapp 💬