पूर्वजों का पैतृक गांव खोजने मॉरीशस से 166 साल बाद भारत पहुंचा विदेशी दंपति

  |   Biharnews

पटना. अपनी माटी, अपना वतन सबको प्यारा होता है खासकर अगर जुड़ाव भारत से हो. मातृभूमि और पूर्वजों से प्रेम का कुछ ऐसा ही मामला बिहार (Bihar) में आया है जहां 153 साल के लंबे अंतराल के बाद एक शख्स अपने पूर्वजों की जानकारी लेने और पैतृक गांव का पता लगाने विदेश (Foreign) से भारत पहुंचा. पटना (Patna) के दानापुर पहुंचे इस दंपति ने बताया कि उनके पूर्वज 1853 में कोलकाता से मारीशस गये थे.

थाना पहुंचकर लगाई मदद की गुहार

बिहार के रहनेवाले बद्री नाम के एक शक्स के पैतृक गांव की तालाश में मॉरीशस से रिटायर्ड पुलिस इंस्पेक्टर दंपित्त फुलवारी थाना पहुंचे. 166 साल बाद भारत आकर कर उनकी पैतृक गांव की माटी की यह तालाश जारी है. पटना के फुलवारी शरीफ थाने में बैठे हेमानंद बद्री और उनकी पत्नी विद्यावति अपने साथ बद्री नाम के पूर्वज की तस्वीर लेकर उनके गांव की तलाश करते फुलवारीशरीफ पहुंचे हैं. हेमानंद मॉरीशस में पुलिस निरीक्षक के पद से रिटायर्ड हैं और उनकी पत्नी विद्यावति भी एक सरकारी नौकरी करती हैं....

फोटो - http://v.duta.us/pzmHKgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/Mxkf8gAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬