बाघ हमला: 20 घंटे तक मासूम का शव खेतों में लेकर बैठे रहे परिजन

  |   Sawai-Madhopurnews

सवाईमाधोपुर. रणथम्भौर की फलौदी रेंज इलाके के डांगरवाड़ा गांव में बाघ हमले में मारे गए दस वर्षीय बालक नीरज के शव को लेकर उसके परिजन एवं ग्रामीण सोमवार शाम चार बजे से मंगलवार दोपहर 12 बजे खेत में बैठ रहे। बाघ ने सोमवार को उस खेत में ही बालक को अपना शिकार बनाया था। 20 घंटे तक खेत में पड़े शव की सुध लेने के लिए वन विभाग का कोई कारिंदा मौके पर नहीं पहुंचा। ग्रामीणों में वनाधिकारियों के रवैए के प्रति आक्रोश जताया।

वहीं रेंजर, फोरेस्टर एवं एक वन रक्षक को भी निलंबित करने की मांग की। हालांकि सोमवार देर रात तक एसडीएम रघुनाथ, तहसीलदार गोपाल सिंह आदि गांवा में ही रुके रहे। वे मंगलवार सुबह नौ बजे फिर समझाइश करने पहुंचे। इसके बाद करीब 11 बजे विधायक अशोक बैरवा की मौजूदगी में प्रशासन व ग्रामीणों के बीच समझाइश हुई। प्रशासन की ओर से मांगों पर आश्वासन दिए जाने के बाद ग्रामीण पोस्टमार्टम कराने को राजी हुए। मंगलवार दोपहर 12 बजे शव को मौके से उठाया गया।...

फोटो - http://v.duta.us/spmrewAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/p_1sQAAA

📲 Get Sawai Madhopur News on Whatsapp 💬