भोपाल के एक मदरसे में पलती हैं गाय, यहां दी जाती है 'देशभक्ति' की शिक्षा

  |   Madhya-Pradeshnews

भोपाल. भोपाल(bhopal) में एक ऐसा मदरसा है जहां गौ-सेवा की जाती है. यहां पूरी एक गौ-शाला (gaushala)है जिसमें अच्छी नस्ल की गाय (cow)पाली गयी हैं. मदरसे में पढ़ रहे बच्चों को गौ-सेवा और देशभक्ति की शिक्षा दी जाती है.मध्यप्रदेश के इतिहास में पहली बार किसी मदरसे में गौ-शाला खोली गई है.

जामिया इस्लामियाअरबिया मदरसा- मदरसे में गौ-शाला सुनकर अजीब ज़रूर लगता है, लेकिन ये सच है. राजधानी भोपाल के नज़दीक तुमड़ा गांव में जामिया इस्लामिया अरबिया मदरसा है. इस मदरसे की आधारशिला नवाबी शासन में रखी गई थी.एक सदी तक यहां कुरान के अनुवाद का काम चलता रहा. यही कारण है कि इसे मस्जिद तर्जुमे वाली के नाम से भी जाना जाता है.आजादी के बाद जब नई शिक्षा की जरूरत हुई, तो मदरसा के संचालकों ने यहां धार्मिक शिक्षा के साथ हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू और फिर कम्प्यूटर पढ़ाना भी शुरू कर दिया. यहां पढ़ने वाले स्टूडेंट्स की डाइट में दूध भी शामिल था. संचालकों ने सोचा क्यों ना यहीं गौशाला खोल ली जाए. इससे दूध भी मिलेगा और बच्चों को गौ-सेवा की तालीम भी दी जा सकेगी....

फोटो - http://v.duta.us/eWp1cAEA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/uUIdowAA

📲 Get Madhya Pradesh News on Whatsapp 💬