मदर एण्ड चाइल्ड विंग में फिर गिरने लगे प्लास्टर

  |   Nagaurnews

नागौर. जिले के राजकीय जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय के मदर एण्ड चाइल्ड विंग के मुख्य गेट के पास के ऊपरी छज्जे पर आई गहरी दरारों ने फिर से डराना शुरू कर दिया है। हालांकि अस्पताल के छत एवं ऊपरी हिस्से में कई जगहों पर ऐसी स्थिति उत्पन्न होने के बाद मरम्मत कराई गई थी, लेकिन पूरे परिसर को सुव्यवस्थित नहीं कराया गया। अब अस्पताल प्रशासन की बेपरवाही से इन दरारों के कारण यहां आने वाले रोगी भी इसके नीचे गुजरने से परहेज करने लगे हैं।

करीब नौ करोड़ 75 लाख की लागत से निर्मित मदर एण्ड चाइल्ड विंग निर्माण के दौरान और, बनने के बाद तक विवादों के घेरे में रहा। चाइल्ड विंग परिसर में प्रवेश करने के दौरान सामने स्थित छज्जे की ऊपरी पर्त का प्लास्टर तो अक्सर टूटकर गिर जाता है। अब इसके अगल-बगल में आई दरारों की वजह से स्थिति विकट होने लगी है। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार मरम्मत के बाद भी इसके आंतरिक हिस्से में भी कई जगहों पर निर्माण में आई विसंगति के कारण स्थिति सही नहीं है। इस संबंध में विभाग के ही कर्मचारियों की ओर से अस्पताल के पीएमओ को लिखित में भी दिया जा चुका है। कर्मचारियों का कहना है कि उन्होंने भवन की गुणवत्ता एवं इसकी खराब स्थिति को लेकर अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारी को अवगत करा दिया है। अब इसे सुव्यवस्थित कराना उनकी जिम्मेदारी है। इसके बाद भी अस्पताल प्रशासन की ओर से इस संबंध में कोई आवश्यक कदम नहीं उठाया गया। इस संबंध में पीएमओ डॉ. वी. के. खत्री से बातचीत हुई तो उनका कहना है कि इसके लिए बाकायदा अलग से विभाग ने ही बना प्रभारी अधिकारी बना रखा है। इसके पश्चात भी व्यवस्था को बेहतर रूप से सुव्यवस्थित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए गए हैं।

फोटो - http://v.duta.us/QmdJeAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/tBKy4wAA

📲 Get Nagaur News on Whatsapp 💬