मेहवड़ के 22 मरीजों में डेंगू का संदेह

  |   Roorkeenews

मेहवड़ खुर्द गांव में स्वास्थ्य कैंप के दौरान हुई जांच में 22 मरीजों में डेंगू के लक्षण पाए गए हैं। वहीं, 20 लोगों में टायफाइड के लक्षण मिले हैं। इस दौरान बुखार के गंभीर मरीजों को स्वास्थ्य विभाग ने हायर सेंटर रेफर कर दिया है। इससे अन्य ग्रामीणों में भी दहशत बनी है। इस दौरान टीम की ओर से करीब 200 लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर उन्हें दवाई वितरित की गई। साथ ही, डेंगू से बचाव और लक्षण की जानकारी भी दी गई।

क्षेत्र के गांव मेहवड़ खुर्द में बुखार ने कहर बरपाया हुआ है। बुखार से कई ग्रामीण पीड़ित थे, जिनका उपचार रुड़की और आसपास के क्षेत्र में चल रहा था। गांव में बुखार की शिकायत पर कलियर विधायक फुरकान अहमद और ग्राम प्रधान आदेश कुमार ने पत्र भेजकर सीएम से शिकायत की थी। साथ ही गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम भेजकर कैंप लगाकर लोगों की जांच करने की मांग की थी। इस पर मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की एक टीम गांव पहुंची और कैंप लगाकर ग्रामीणों के स्वास्थ्य की जांच की। चिकित्सक गुंजन सैनी ने बताया कि मेहवड़ खुर्द, बाजुहेड़ी और इमलीखेड़ा के करीब 200 ग्रामीणों के स्वास्थ्य जांच के दौरान ब्लड के सैंपल लिए गए थे। जिन्हें डेंगू की आशंका है, उनके सैंपल एलआईजा जांच के लिए भेजे गए हैं। बुखार से गंभीर मरीजों को हायर सेंटर रेफर किया गया है। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों को डेंगू के लक्षण जैसे तेज बुखार, सिर दर्द, माशपेशियों व जोड़ो में दर्द, आंखों के पीछे दर्द और जी मचलाना, उल्टी होने के बारे में बताया गया है। बताया कि दो लोगों की गंभीर हालत देखते हुए हायर सेंटर रेफर किया गया है। ग्रामीणों से अपने घर के आसपास साफ सफाई और पानी जमा न होने की सलाह दी गई है। टीम में बृजेश कुमार, नौशाद अहमद, पुष्पा, अरविंद सैनी आदि शामिल रहे।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/fZX0bQAA

📲 Get Roorkee News on Whatsapp 💬