70 साल बाद करवाचौथ पर पड़ रहा है यह योग, पति के लिए है विशेष फलदायी

  |   Gwaliornews

ग्वालियर। इस बार करवा चौथ 17 अक्टूबर को कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को कृत्तिका नक्षत्र में शुरू होकर रोहिणी नक्षत्र में समाप्त होगी। इस दिन चंद्रोदय रात्रि में लगभग 8:34 पर होगा, जिसका मान अलग- अलग स्थानों पर भिन्न हो सकता है। ज्योतिषाचार्य अशोक भटनागर ने बताया कि मान्यता है कि 27 नक्षत्र चंद्रमा की 27 पत्नियां हैं, जिसमें से रोहिणी उन्हें विशेष प्रिय है जिस पर चंद्रदेव अपना सारा प्यार और स्नेह उड़ेल देना चाहते हैं! इसीलिए रोहिणी नक्षत्र में पत्नी द्वारा पूजा और चंद्रदर्शन पति की दीर्घायु, स्वास्थ्य और संपन्नता के लिए विशेष फलदायी होता है। इस बार मंगल भी चंद्रमा के अन्य नक्षत्र हस्त में स्थित है जिसके कारण चंद्रदेव मंगल की अजेय शक्ति भी अपने साथ लिए हुए हैं! इस दिन स्त्रियां लाल वस्त्र धारण करें, सफेद या काले वस्त्र धारण ना करें। दूध, दही, चावल या सफेद वस्त्र किसी को दान में भी ना दें।...

फोटो - http://v.duta.us/RHk6-AAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/-kssBwAA

📲 Get Gwalior News on Whatsapp 💬