क्या है सिजोफ्रेनिया जिसने महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह को गुमनामी के अंधेरे में धकेल दिया

  |   Patnanews

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का आज सुबह पटना में निधन हो गया वे 74 साल के थे. बताया जा रहा है कि वे पिछले 40 सालों से 4 सिजोफ्रेनिया बीमारी से ग्रस्त थे. इस बीमारी के कारण भी एक महान गणितज्ञ गुमनामी के अंधेरों में खो गया. आइए जानते हैं आखिर क्या है सिजोफ्रेनिया बीमारी-

एक मानसिक रोग है सिजोफ्रेनिया

सिजोफ्रेनिया एक मानसिक रोग है, जो एक इंसान की क्षमता का नाश कर देती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक सिजोफ्रेनिया युवाओं की सबसे बड़ी क्षमतानाशक बीमारी है. इसे विश्व की दस सबसे घातक बीमारियों में सिजोफ्रेनिया को शामिल किया गया है. इस बीमारी के लगभग तीन करोड़ रोगी पूरे विश्व में हैं, जिनकी उम्र 15 से 35 वर्ष के बीच है. भारत में इस बीमारी के लाखों मरीज हैं. सिजोफ्रेनिया एक ऐसी मानसिक बिमारी है जो किसी भी व्यक्ति के सोचने समझने की क्षमता को समाप्त कर देती है. जिसके कारण पीड़ित व्यक्ति के सोचने, महसूस करने और व्यवहार करने का तरीका प्रभावित होता है.एक्सपर्ट का मानना है कि सिजोफ्रेनिया 16 से 30 साल की आयु में हो सकता है. पुरुषों में इस रोग के लक्षण महिलाओं की तुलना में कम उम्र में दिखने शुरू हो सकते हैं. शुरुआती दौर में इसके लक्षण दिखते नहीं है इसलिए लोगों को इस बात का पता ही नहीं होता कि उन्हें यह रोग हो गया है....

फोटो - http://v.duta.us/d77pkQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/edK5dwAA

📲 Get Patna News on Whatsapp 💬