मानदेय की राशि से स्टेशनरी में खर्च कर रहे जिले के रोजगार सहायक

  |   Bilaspur-Chattisgarhnews

बिलासपुर . जिले के 529 रोजगार सहायकों द्वारा उनको मिलने वाले मानदेय की राशि से हर महीने स्टेशनरी में राशि खर्च की जा रहे है। रोजगार सहायकों का मानदेय वैसे भी काफी कम है। इसलिए प्रत्येक रोजगार सहायक को स्टेशनरी व्यय राशि अलग से प्रदान की जावेगी।

छत्तीसगढ़ ग्राम रोजगार सहायक संघ के अध्यक्ष अशोक राव मराठा सचिव सुनील कुमार साहू के नेतृत्व में रोजगार सहायकों का एक प्रतिनिधिमंडल गुरूवार को जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के नाम परियोजना अधिकारी रिमन सिंह ठाकुर को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में कहा कि जिला पंचायत के सात विकासखंड़ों में नियुकत सभी रोजगार सहायक ग्राम पंचायतों में नियुक्त है। इन रोजगार सहायकों को ग्राम पंचायतों में स्टेशनरी व्यय के अंतर्गत नक्शा, खसरा प्रस्ताव , फाइल , मांगपत्र मस्टररोल की छायाप्रति, दस्ता, पेन, रजिस्टर , सामाजिक अंकेक्षण की फाइल तैयार करना , वर्क फाइल , गुड गर्वनेंस की फाइल तैयार करने के लिए पंजीय तैयार करना पड़ता है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए मोबाइल नेटपैक , विभिन्न प्रकार के दस्तावेजों का फोटो कापी अपने एकमुश्त मानदेय राशि से सालाना स्टेशनरी व्यय 10 से 15 हजार रुपए करना पड़ता है। यह रोजगार सहायकों के ऊपर अतिरिक्त आर्थिक भार पड़ रहा है। इसलिए प्रत्येक रोजगार सहायकों को स्टेशनरी खर्च की अतिरिक्त राशि दिया जावे।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/REMn9QAA

📲 Get Bilaspur-Chattisgarhnews on Whatsapp 💬