वायदा में गिरावट से सोयाबीन में तेजी थमी

  |   Indorenews

इंदौर. वायदा कारोबार में आई गिरावट तथा सोया खली मांग सुस्त रहने से सोयाबीन की कीमतों में तेजी थम गई है। एनसीडीइएक्स में सोयाबीन नवंबर वायदा 1.42 प्रतिशत घटकर 3955 रुपए बंद हुआ। देश की मंडियों में सोयाबीन की 7.90 लाख बोरी आवक हुई। प्रदेश में 4 लाख बोरी आवक हुई। मंडी में सोयाबीन 3975 रुपए क्विंटल बिकी। उधर यूएसडीए ने 106000 टन सोयाबीन की एक निजी निर्यात बिक्री की सूचना जारी की है। कुछ विश्लेषकों का मानना है कि चीन दिसंबर टैरिफ बढ़ोतरी से पहले सोयाबीन खरीदने की कोशिश कर रहा है। अनुमानित ब्राजीलियाई उत्पादन को अद्यतन किया। उन्होंने सोयाबीन के उत्पादन को 2019-20 से 1208.6 लाख टन तक संशोधित किया, जो कि पिछले अनुमान से 21.4 लाख टन कम है। कॉनैब का सोयाबीन निर्यात अनुमान में कोई बदलाव नहीं 720 लाख टन पर स्थिर। सोयाबीन प्रोसेसर्स एसोसिएशन (सोपा) के मुताबिक नए तेल-तिलहन वर्ष में अक्टूबर के दौरान 12 लाख टन सोयाबीन की आवक के समक्ष कुल 6.50 लाख टन की क्रशिंग हो पाई है। आवक व क्रशिंग दोनों चार वर्ष के न्यूनतम स्तर पर है। दौरान कुल 5.27 लाख टन सोयाबीन खली की प्राप्ति में से मात्र 50 हजार टन का निर्यात हो पाया है। पिछले वर्ष की समान अवधि 1.31 लाख टन सोया खली का निर्यात हो पाया है। पिछले वर्ष की समान अवधी में 1.31 लाख टन सोया खली का निर्यात हुवा था। सोपा ने इस साल 89.84 लाख टन सोयाबीन उत्पादन का अनुमान लगाया है, जो पिछले वर्ष से 20 लाख टन कम है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/fl2crQAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬