आजाद समेत कई क्रांतिकारियों की पनाहगाह थे लविवि छात्रावास

  |   Lucknownews

लखनऊ विश्वविद्यालय के परिसर और छात्रावासों से क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन हुआ और ये बड़ी घटनाओं के साक्षी भी बने। महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद के साथी सुखदेव राज यहां के तिलक छात्रावास (जो उस समय मेस्टन हॉस्टल के नाम से जाना जाता था) में रहकर पढ़ाई करते थे।

चंद्रशेखर आजाद अक्सर उनसे मिलने आया करते थे। श्रीकृष्ण सरल की पुस्तक 'इंडियन रेवोलुशनरीज' में इसका वर्णन किया गया है। सुखदेव राज वर्ष 1930 में लखनऊ विवि में बीए के विद्यार्थी थे। विवि के मेस्टन छात्रावास में वे पंजाब के क्रांतिकारी साथी जगदीशचन्द्र राय के साथ रहते थे।

वे चंद्रशेखर आजाद के प्रमुख साथियों में थे। इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में जब मुठभेड़ हुई, जिसमें आजाद शहीद हुए, उनके साथ सुखदेव राज भी थे। इंडियन रेवोलुशनरीज पुस्तक के अनुसार मेस्टन छात्रावास में आजाद उनसे मुलाकात के लिए आया करते थे। इस बात की भनक अंग्रेजी हुकूमत को भी लग गई थी। आजाद और भगत सिंह के शहीद होने के बाद सुखदेव राज अकेले हो गए थे।...

फोटो - http://v.duta.us/aiCOIQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/nfcTMgEA

📲 Get Lucknow News on Whatsapp 💬