....और समाप्त हो गया गणित का एक अंतरराष्ट्रीय युग

  |   Bhojpurnews

आरा : विश्व प्रसिद्ध गणितज्ञ डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह की मौत की खबर से समाज के हर वर्ग को दुख पहुंचा है. भाव विह्वल जिलेवासियों ने कहा कि उनके निधन से गणित के एक अंतरराष्ट्रीय युग का अंत हो गया.

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के रसायन विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर यूएस पांडेय ने कहा कि उनका पूरा जीवन गणित है. डॉ वशिष्ठ नारायण सिंह गणित थे और गणित डॉ सिंह.

दोनों एक-दूसरे के पूरक थे. वहीं महाराजा महाविद्यालय के गणित विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रो गुलाब सिंह ने कहा कि डॉ सिंह ने मानसिक स्थिति असंतुलित होने के पहले थोड़े समय में ही गणित के क्षेत्र में अद्वितीय मुकाम हासिल किया था. यदि वे ठीक होते तो शायद विश्व को बहुत कुछ मिल सकता था....

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/J0RCAwAA

📲 Get Bhojpur News on Whatsapp 💬