कस्तूरबा विद्यालय की छात्राएं नहीं बता पाई राजधानी का नाम

  |   Bulandshahrnews

कस्तूरबा विद्यालय की छात्राएं नहीं बता पाई राजधानी का नाम

बुलंदशहर। एडीएम प्रशासन द्वारा डायट परिसर स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय की बृहस्पतिवार को पोल खुल गई। इस दौरान छात्राएं राजधानी का नाम नहीं बता पाई। इतना ही नहीं वार्डन समेत पांच कर्मचारी गायब मिली। रसोई में गंदगी की भरमार पाई गई।

एडीएम प्रशासन रवींद्र कुमार ने बृहस्पतिवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेेट ईशा प्रिया के साथ डायट परिसर स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सबसे पहले कर्मचारियों की उपस्थित रजिस्टर दर्ज किया गया। इसमें वार्डन रिचा सक्सेना, शिक्षिका मानवी मलिक मोनिका पाल और लेखाकार पूनम शर्मा अनुपस्थित पाई गई। जांच में पता चला कि वार्डन रोजाना इसी तरह गायब हो जाती है। रसोई का निरीक्षण करने पर सहायक रसोइया बबली देवी अनुपस्थित पाई गई। रसोई का निरीक्षण करने पर यहां बासी रोटी मिली। दूध व सुबह का गुथा हुआ आटा भी मिला। यहां पर गंदगी की भरमार के साथ बर्तन आदि भी साफ नहीं मिले। कक्षों में साफ-सफाई का अभाव मिला। इसका कारण पूछने पर कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। बाथरूम का निरीक्षण करने पर पता चला की छात्राओं को ठंडे पानी से नहाने को मजबूर किया जाता है। चौंकाने वाली बात यह रही कि निरीक्षण के दौरान छात्राओं से कुछ सवाल पूछे गए। इसमें शामिल छात्राएं राजधानी तक का नाम और पहाड़े तक नहीं सुना पाई। एडीएम प्रशासन के निरीक्षण से सभी कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। बताया गया कि इस घोर लापरवाही पर जल्द ही कोई कड़ी कार्रवाई होगी। एडीएम प्रशासन रवींद्र कुमार ने बताया कि जांच रिपोर्ट बनाकर कार्रवाई के लिए जिलाधिकारी के पास भेज दी गई है।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/eMhUFQAA

📲 Get Bulandshahr News on Whatsapp 💬