खाए के गाल, नहाए के बाल अलग दिखत हैं: मुनिश्री

  |   Chhatarpurnews

बड़ामलहरा. आचार्य विशुद्ध सागर महाराज के शिष्य मुनि आदित्य सागर, मुनि सहज सागर, मुनि अप्रियम सागर और मुनी विश्वास सागर का ससंघ प्रवेश नगर में हुआ। नगर वासियों ने नगर की सीमा पर पहुंच कर उनकी आगवानी की।

नगर के पंचायती मंदिर में सुबह की बेला पर धर्म सभा को संबोधित करते हुई मुनि आदित्य सागर महाराज ने कहा कि संसार में जितने भी जीव हैं वो दुख से संतृप्त हैं, इसलिए कर्म भूमि को प्राप्त करके उत्तम धर्म का पालन करो। उन्होंने बुंदेली में एक कहवात कहते हुए कह ा कि खाए के गाल और नहाए के बाल अलग दिखत हंै। ऐसी ही सम्यक दृष्टि की चर्या और चर्चा अलग दिखाई देती है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/HfOXHAAA

📲 Get Chhatarpur News on Whatsapp 💬