'जब्बार भाई का चले जाना और हमारा अपराध'

  |   Madhya-Pradeshnews

सचिन कुमार जैन

जब्बार भाई बात माफी के लायक तो नहीं है, पर फिर भी कहना चाहता हूं, माफ कर दीजिएगा. हमने बहुत देर कर दी. यह तो नहीं ही कहा जा सकता है कि आपने हमें वक्त नहीं दिया, खूब वक्त दिया समझने के लिए और कुछ कर पाने के लिए. हमने लापरवाही और उपेक्षा का बहुत बड़ा अपराध कर दिया. हमें पता भी था कि आप कौन हैं? आप अब्दुल जब्बार थे, वही अब्दुल जब्बार जिसने भोपाल गैस त्रासदी (Bhopal Gas Tragedy)को देखा और उसका आक्रमण झेला था. वह आक्रमण कईयों ने झेला था. मैंने भी झेला था. मैंने भी उस जहर की जलन को महसूस किया था अपनी आंखों में, अपने सीने में किन्तु आपने उस जलन के दर्द को इतना महसूस किया कि समाज के दर्द को दूर करने में यह भूल ही गए कि आपकी खुद की स्थिति क्या है? पिछले चार दिन हमें यह बता रहे थे कि हम क्या-क्या नहीं जान पाए? आप समाज का ध्यान रख रहे थे, हम आपका ध्यान नहीं रख रहे थे. कुछ दोस्तों ने ध्यान रखा, किन्तु हमने तो नहीं!...

फोटो - http://v.duta.us/cRSixQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/VXfbHAIA

📲 Get Madhya Pradesh News on Whatsapp 💬