जब वशिष्ठ बाबू ने कहा था- 'अभी तक हमरे बोर्ड लागल बा हियां'

  |   Biharnews

पटना. प्रख्यात गणितज्ञ और बिहार के विभूति वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashith Narayan Singh) का गुरुवार को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया. पिछले कई सालों से बीमार चल रहे वशिष्ठ बाबू ने पटना के पीएमसीएच (PMCH) में अंतिम सांस ली. आज उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भोजपुर (Bhojpur) जिले के बसंतपुर में राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा. आज जब वे हमारे बीच नहीं हैं उनसे जुड़ी बहुत सी यादें लोगों के जेहन में उभर रही हैं.

एक झलक के लिए छात्रों की लग जाती थी भीड़

एक समय ईस्ट का ऑक्सफ़ोर्ड कहे जाने वाले पटना यूनिवर्सिटी के साइंस कॉलेज से अपनी पढ़ाई करने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी भी गए. प्रोफेसर जॉन कैली के बुलावे पर कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी जाकर उन्होने पीएचडी किया. उसके बाद वे जब भी वे वापस अपने पटना यूनिवर्सिटी आते थे तो उन्हें एक झलक देखने के लिए छात्र उत्सुक हो जाते थे. छात्रों की भीड़ लग जाती थी....

फोटो - http://v.duta.us/ubFAIQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/5B0gSAAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬