झील के दलदल में हजारों मृत पक्षी, जीवित पक्षियों पर संक्रमण का खतरा

  |   Jaipurnews

जयपुर/सांभर। सांभर झील में कई दिनों से मर रहे हजारों प्रवासी पक्षियों की मौत मामले में भोपाल से मिली रिपोर्ट में बर्ड लू नहीं होना राहत की खबर है लेकिन अब भी प्रवासी पक्षियों पर खतरा टला नहीं है। गुरुवार को भी करीब 538 मृत पक्षियों को दफनाया गया है जबकि अब तक 5 हजार से अधिक मृत पक्षियों को दफनाया जा चुका है। सांभर झील आए विशेषज्ञों के अनुसार प्रथम दृष्टया पक्षियों की मौत की वजह बोटुलिज्म यानी मृत पक्षियों के जीवाणुओं से मौत होना माना जा रहा है। कई किमी में फैली सांभर झील में दलदल इलाके में अब भी हजारो मृत पक्षी हैं। इन पक्षियों के जीवाणुओं को खाने से पक्षियों में बोटुलिज्म फैलने का आशंका बढ़ती जा रही है। ऐसे में दलदल क्षेत्र में रेस्क्यू ऑपरेशन तेजी से करना जरुरी हो गया है। हालांकि जिला कलक्टर का कहना है कि शुक्रवार से वॉलटियर्स को लॉग पहनाकर दलदल में उतारा जाएगा और मृत पक्षियों को निकालकर दफनाया जाएगा। झील में रेस्क्यू सेंटर भी नहीं बने। अभी झील से 40 किमी दूर रेस्क्यू सेंटर है। रेस्क्यू सेंटर में अभी मात्र 26 पक्षी हैं। जिला प्रशासन शुक्रवार को झील में चार रेस्क्यू सेंटर बनाएगा।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/u1UwHwAA

📲 Get Jaipur News on Whatsapp 💬