तीन साल में बंद 85 विविंग उद्योग

  |   Bhilwaranews

भीलवाड़ा।

bhilwara Textile Industry नोटबंदी, जीएसटी के बाद विश्वव्यापी आर्थिक मंदी का असर भीलवाड़ा के कपड़ा उद्योग पर नजर आने लगा है। हालात इतने विकट है कि करीब तीन साल में ८५ से अधिक विविंग उद्योग बंद हो गए। ये चौकाऊ आंकड़े सिन्थेटिक्स विविंग मिल्स एसोसिएशन के सर्वे में सामने आए। कई उद्यमी बैंकों का ऋण चुकाने की स्थिति में नही है। लिहाजा बैंकों ने कुछ उद्योगों का अधिग्रहण कर लिया। कुछ व्यापारी तो करोड़ों रुपए की उधारी के चलते शहर छोड़ गए।

Bhilwara Textile Industry सर्वे के अनुसार इन ८५ उद्योगों के चार हजार से अधिक लूम बेकार पड़े है। इनके चार हजार मजदूर बेरोजगार हो गए। हालांकि इनके बंद होने का कपड़ा उत्पादन पर असर नहीं पड़ा। भीलवाड़ा एकमात्र शहर है, जहां ९६ प्रतिशत अत्याधुनिक लूम हैं। यहां ३७० विविंग उद्योग थे जो अब २५४ रह गए। कुछ इकाई आपस में मर्ज हो गई या मालिक बदल गए।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/huE-oQAA

📲 Get Bhilwara News on Whatsapp 💬