पुनर्वास से कोसों दूर विकलांग बच्चे, सेटअप में सारे पद लेकिन हकीकत में 25 बच्चों के लिए एक ही शिक्षक? कोई तो सुध लो इन बच्चों की

  |   Raipurnews

रायपुर। शिव को यहां पर कुछ भी नहीं सिखाया जाता वो सिर्फ खाना खाता है, और सोता है। जब जगा रहता है तो उतने समय वो बस बरामदे में बैठ कर अपने जैसे ही बच्चों को देखता है। यह हर उस बच्चे की हालत है जो माना के अस्थि बाधितार्थ गृह में है। गरीब मां-बाप अपने बच्चों की सही परवरिश और उन्हें कुछ सिखाने के लिहाज से ही इन संस्थाओं में अपने बच्चों को छोड़ते है, लेकिन यहां रहने वाले बच्चे सिर्फ खाना खाने के अलावा यहां कुछ भी नहीं कर पा रहे है।

संस्था में इन बच्चों को सिखाने पढ़ाने के लिए कोई शिक्षक, प्रशिक्षक ही नहीं है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/Mbsk9AAA

📲 Get Raipurnews on Whatsapp 💬