प्रत्याशी नहीं करते बात: क्यों कम हो रही बेटियां, स्वच्छता में क्यों गिरती रैंक

  |   Chittorgarhnews

चित्तौडग़ढ़. नगर परिषद के लिए प्रचार अभियान अंतिम चरण में आ गया लेकिन भाजपा हो या कांग्रेस कोई भी राजनीतिक दल शहर की सूरत बदलने का विजन पेश नहीं कर पाया। फिर अतिक्रमण मुक्त करने,ग्रीन-क्लीन करने, सड़कों की दशा सुधारने जैसे उन्हीं पुराने मुद्दों की चर्चा है जो हर चुनाव में छाए रहते है। शहर में शैक्षिक विकास कैसे हो, सामाजिक विसंगतियां कैसे दूरे हो,सभी क्षेत्रों का समान विकास कैसे हो जैसे मुद्दों पर चर्चा ही नहीं है। शहर में बेटियों की कम होती संख्या, स्वच्छता सर्वे में चित्तौड़ शहर की रैंक निरन्तर गिरने, अपराधियों के बेखौफ होकर वारदाते अंजाम देने, अब भी करीब एक चौथाई महिला आबादी के निरक्षर होने जैसे मुद्दें चुनाव में कोई नहीं उठा रहा। शहर की सूरत बदलने व विकास के पैमाने पर आगे लाने के लिए जिन मुद्दों पर काम करने की जरूरत है व राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों के एजेंड़े से ही गायब है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/aql0SwAA

📲 Get Chittorgarh News on Whatsapp 💬