प्रदेश सरकार का तुगलकी फरमान मंजूर नहीं: शास्त्री

  |   Roorkeenews

कैबिनेट में जैविक खेती का कानून मंजूर होते ही इसका विरोध भी शुरू हो गया है। भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष विजय कुमार शास्त्री का कहना है कि जिस तरीके से सरकार ने किसानों को जैविक खेती करने का आदेश दिया है, वह तुगलकी फरमान है। सरकार को अगर किसानों की चिंता है तो वह विदेशों की तर्ज पर किसानों को नगद सब्सिडी दे।

विजय शास्त्री ने बृहस्पतिवार को प्रेस बयान जारी कर कहा कि किसान अपनी खेती का खुद मालिक है। वह जैसे चाहे खेती कर सकता है। उन्होंने कहा कि रासायनिक खाद का प्रयोग नहीं करने से पैदावार बहुत कम हो जाएगी और किसानों को खेती छोड़नी पड़ सकती है। यही नहीं उन्होंने कहा कि यदि किसी मंत्री को जैविक अनाज चाहिए तो वह बाहर से मंगवा ले। किसान जिस तरीके से चाहेगा, अपनी खेती करेगा। वह तुगलकी फरमान किसी कीमत पर स्वीकार नहीं करेगा। किसी कानून को बनाने से पहले किसानों को भरोसे में लिया जाना चाहिए। अभी तक सरकार ने शुगर मिलों से किसानों का बकाया भुगतान भी नहीं कराया और अब नए नए कानून थोपे जा रहे हैं। अगर किसानों का शोषण हुआ तो उसका जवाब दिया जाएगा। अगर यह कानून वापस नहीं हुआ तो आंदोलन करेंगे।

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/LGNU3gAA

📲 Get Roorkee News on Whatsapp 💬