रंगश्री के तत्वावधान में गंगा तट पर हुआ इतिहास सम्मेलन

  |   Buxarnews

बक्सर : इतिहासकार देवेंद्र चौबे ने कहा कि इतिहास को नये सिरे से देखने की जरूरत है. अभी तक जो इतिहास लिखा गया है, वह पढ़े लिखे विद्वानों ने लिखा है. हमारी कोशिश है कि जनता के मन में जो जन समाज का इतिहास है, उसको सामने लाया जाये. उन आंदोलनों और संघर्षों को जनता के नजरिये से देखा जाये, जिसे अब तक मुख्यधारा के इतिहासकार अपनी निगाह से देखते रहे हैं. वे गुरुवार को अहिरौली के गंगा तट पर रंगश्री इतिहास ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित सातवां सर्जनात्मक इतिहास सम्मेलन में भाग लेने पहुंचे थे.

इस मौके पर उन्होंने कहा कि केवल नेतृत्वकर्ता का ही इतिहास न पढ़ा जाये, बल्कि उन छोटे-छोटे नायकों को भी इतिहास के केंद्र में खड़ा किया जाये जिन्होंने गांव और कस्बों के इतिहास को बदलते हुए राष्ट्र इतिहास की धारा को अपनी चेतना से प्रभावित किया और यहीं इतिहास गांव और किसानों की जिंदगी में बिखरा हुआ है. जिसे सहेजने की जरूरत है....

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/mUXHDQAA

📲 Get Buxar News on Whatsapp 💬