रेफर का दर्द झेल रहा बिरसिंहपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, मिले सामुदायिक केंद्र तो बने बात

  |   Satnanews

बिरसिंहपुर (रोहित पाठक). मरीजों को इलाज मुहैया कराने वाला बिरसिंहपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आखिर कब तक प्राथमिक का ही दंश झेलता रहेगा। 1956 से यह अस्पताल अपनी सेवा दे रहा। क्षेत्र की आबादी बढ़ती जा रही पर इस अस्पताल की समस्याओं पर न तो जिम्मेदार अधिकारियों की नजर पड़ती और न जनप्रतिनिधियों की। स्थित यह है कि प्राथमिक उपचार तो इस अस्पताल में नसीब हो जाता है, लेकिन गंभीर मरीजों को उपचार में परेशानी का सामना करना पढ़ता है।

प्रतिदिन 400-450 मरीज

बिरसिंहपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर एक लाख बीस हजार की आबादी का भार है। प्रतिदिन 400-450 मरीज उपचार कराने पहुंचते हैं। अस्पताल में बेडों की भी स्थित में सुधार नहीं हुआ। आठ बेडों पर प्राथमिक उपचार और प्रसूति महिलाओं के प्रसव की भी जिम्मेदारी अस्पताल उठा रहा है। गंभीर मरीजों को उपचार लाभ नहीं मिल पाता तो सतना रेफर किया जाता है। विभाग से मिले आंकड़े के अनुसार, रोज 2 से 5 मरीजों को सतना रेफर किया जाता है। महीने में 90-100 लोगों को रेफर के दौरान सतना में उपचार प्राप्त होता है। दो से तीन लोग रास्ते में दम तोड़ देते हैं।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/q7exTAAA

📲 Get Satna News on Whatsapp 💬