विद्यार्थी मजबूर हुए ताले लगाने को

  |   Ujjainnews

उज्जैन. विक्रम विश्वविद्यालय की तीन अध्ययनशालाओं के संचालन वाले वाग्देवी भवकी अव्यवस्थाओं से नाराज विद्यार्थियों ने कक्षाओं का बहिष्कार करने के बाद भवन के मुख्य द्वार पर ताला जड़ दिया। आश्वासन मिलने और कार्य प्रारंभ होने पर ताले खोले गए। विक्रम विश्वविद्यालय के वाग्देवी भवन में हिन्दी, कॉमर्स और पर्यावरण अध्ययनशाला का संचालन होता है और इसमें १५० से अधिक छात्र-छात्राएं अध्यययनरत हैं। इनका कहना था कि भवन में व्याप्त समस्याओं के कारण अध्ययन करना मुश्किल हैं।

सबसे ज्यादा परेशानी छात्राओं को

परिसर और भवन में नियमित सफाई नहीं होती हैं। पीने के पानी का अभाव है। लंबे समय से वॉटर कूलर बंद हैं। कक्षाओं में बोर्ड क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। इनको बदला नहीं जा रहा हैं। कक्षाओं में पक्षियों का बसेरा है, जो टेबल पर गंदगी कर जाते हैं। इसी के साथ सुविधाघर का प्रयोग करना भी किसी बड़ी असुविधा से कम नहीं है। सबसे ज्यादा परेशानी छात्राओं को हो रही हैं। साफ-सफाई को लेकर कर्मचारियों और संसाधन में कमी की बात सामने आई। विभागों में व्याप्त गंदगी से परेशान विद्यार्थी ने सफाई नहीं होने पर मुख्यभवन पर ताला लगा दिया। विद्यार्थियों का यह भी कहना था कि कर्मचारियों के पास झाडू, फिनाइल और सफाई अन्य साधन भी नहीं हैं। इस संबंध में पूर्व में भी कई बार मांग की जा चुकी हैं। समस्याओं के निराकरण के लिए हर बार प्रदर्शन का सहारा लेना पड़ता हैं। इसके बाद ही काम होते हैं। तालाबंदी की जानकारी मिलने पर विवि छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष आरके अहिरवार वाग्देवी भवन पहुंचे। विद्यार्थियों से बात कर संबंधित विभाग को सफाई और अन्य कार्य के निर्देश दिए। इसके बाद तालाबंदी खत्म हुई।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/UjPG1AAA

📲 Get Ujjain News on Whatsapp 💬